पिछले जन्म के मां बाप को देखते ही गोद में चला गया 3 साल का बच्चा, बताया कैसे हुई थी मौत

“पुनर्जन्म” सच में होता है या नहीं ये बहस का विषय है। वैज्ञानिक इसे नहीं मानते लेकिन धर्म शास्त्र मानता है। इस बीच झालावाड़ के खजूरी गांव में पुनर्जन्म की एक विचित्र घटना सामने आई है। यहां 3 वर्ष का बच्चा मोहित खुद को पिछले जन्म का तोरण नाम का शख्स बता रहा है। इतना ही नहीं उसने ये भी बताया कि उसकी मौत ट्रैक्टर के नीचे कुचलने से हुई थी।



मोहित के पिता औंकार लाल मेहर बताते हैं कि उनका बेटा पैदा हुआ जब से ही ट्रैक्टर से डरता है। वह इसकी आवाज सुन रोना शुरू कर देता है। जब इसने बोलना शुरू किया तो अपना नाम तोरण (पूर्वजन्म का नाम) बताया। जब उन्होंने इसकी जांच पड़ताल की तो पता चल कि 16 साल पहले मनोहर थाना क्षेत्र के ही कोलूखेड़ी कला में रोड निर्माण काम में मजदूरी करने खजूरी निवासी कल्याण सिंह धाकड़ के बेटे तोरण धाकड़ (25) की ट्रैक्टर के नीचे दबने से मौत हो गई थी।



खजूरी निवासी तोरण की बुआ नथिया बाई धाकड़ को जब मोहित के बारे में पता चल तो वह उससे मिलने पहुँच गई। मोहित ने उसे देखते ही पहचान लिया। फिर बुया ने तोरण के माता-पिता को बुलाया। 3 साल के मोहित ने उन्हें भी पहचान लिया। तोरण के पिता कल्याण सिंह धाकड़ कहते हैं कि जब वे मोहित से मिले तो ऐसा लगा जैसे उनका मरा हुआ बेटा फिर से लौट आया है।



इस मामले पर झालावाड़ मेडिकल कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर कृष्ण मुरारी लोधा कहते हैं कि इंसान की मौत के बाद उसका ब्रेन डेड हो जाता है। उसकी मेमोरी पूर्ण रूप से खत्म हो जाती है। नए शरीर में नया ब्रेन बनता है। मेमोरी का एक शरीर से दूसरे शरीर में ट्रांसफर होना असंभव है। बच्चे ने परिजनों या कुछ लोगों द्वारा इस बारे में सुन लिया होगा और अब कहानी बनाकर ये सब बाते बोल रहा है।