अक्षरा सिंह के पिता ने आखिर क्यों कहा- मेरी बेटी भीख मांग लेगी लेगी, लेकिन पवन सिंह के साथ काम नहीं करेगी.

बिहार के भोजपुरी सिनेमा के जगत में अक्षरा सिंह अब कोई साधारण नाम नहीं है. अक्षरा सिंह अब किसी पहचान की मोहताज भी नहीं है. भोजपुरी फिल्म से जलवा कायम करने के बाद अब वह सीधा देश के चर्चित लोकप्रिय शो “बिग बॉस” में पहुंच चुकी है. बिग बॉस में कदम रखने के साथी अक्षरा सिंह का दायरा भोजपुरी से बढ़कर अब राष्ट्रीय स्तर पर कायम हो गया है.



एक वक्त था जब पवन सिंह और अक्षरा सिंह के बीच हुए विवाद ने अक्षरा सिंह को घुट-घुट कर जीने को मजबूर कर दिया था. कई बार वह रोते-रोते सोशल मीडिया पर वह लाइव भी आई थी और अपने साथ हो रहे घटनाओं के बारे बताती थी. आज आपको उसी अक्षरा सिंह के कुछ अनछुए पहलुओं के बारे में बताते हैं.



भोजपुरी सिनेमा जगत में जब पवन सिंह से अक्षरा का विवाद हुआ तब ऐसा कहा जा रहा था कि मछली ने मगरमच्छ से बैर कर लिया है. अब अक्षरा का कैरियर खत्म हो जाएगा. शुरुआत में बेशक झटके लगे, लेकिन अक्षरा सिंह ने घुटने नहीं टेके और परिस्थितियों के आगे, आलोचनाओं के आगे और पवन सिंह की फैन फॉलोइंग की बदतमीजी के आगे मजबूती से खड़ी रही. इस लड़ाई में अक्षरा सिंह की फैमिली खासकर उनके पिता हर कदम पर उनके साथ खड़े रहे.



अक्षरा सिंह के पिता बिपिन सिंह एक दिग्गज भोजपुरी कलाकार है. साथ ही भोजपुरी में उनकी एक अपनी पैठ रही है. लेकिन बेटी की हालत को वह भी ठीक नहीं कर पा रहे थे, क्योंकि मुकाबला उस महारथी से था, जो भोजपुरी की दुनिया में राज कर रहा था. पवन सिंह से लोहा लेना किसी भी भोजपुरी कलाकार के लिए आसान नहीं है. वह भोजपुरी जगत के सलमान खान है फिलहाल.



लेकिन एक पिता के तौर पर विपिन सिंह हमेशा अक्षरा के साथ खड़े रहे. एक समय ऐसा आया जब लोगों ने अक्षरा सिंह को पवन सिंह के साथ समझौता करने को कहा. अक्षरा मान भी जाती लेकिन उनके पिता ने अपनी बेटी को झुकने नहीं दिया. उन्होंने स्पष्ट तौर पर यह कहा था कि उनकी बेटी भीख मांग लेगी पर पवन सिंह के साथ काम नहीं करेगी. एक पिता के स्वाभिमान को इस तरीके से दहाड़ता हुआ देखकर अक्षरा का सीना भी आत्म स्वाभिमान से गदगद हो गया. उसके बाद अक्षरा ने कई फिल्मों में काम किया. कई एल्बम निकालें. शुरुआत में उनके काम को जानबूझकर नजरअंदाज किया गया. लेकिन बाद में अक्षरा सिंह ने अपने हुनर के बल पर एक से एक सुपरहिट गाने दिए.



भोजपुरी दुनिया के छोटे कलाकारों के साथ काम करते हुए खुद तो बड़ी बनी ही, उनको भी एक मुकाम तक पहुंचा दिया. अक्षरा सिंह अब भोजपुरी सिनेमा में वह छायादार पेड़ बन चुकी थी, जो ना सिर्फ अपनी जड़ों को मजबूत करता है ,बल्कि आने जाने वाले हर राही को छाया और फल प्रदान करता है. अक्षरा सिंह की लोकप्रियता बढ़ी और उनके खिलाफ चल रहे हैं साजिशों को अपने आप विराम लग गया. यह अक्षरा के अथक परिश्रम और शानदार संयम का परिणाम था.





हाल ही में अक्षरा के पिता बिपिन सिंह ने अपने इंटरव्यू में कहा था कि समय इतने खराब आ गए थे कि पवन सिंह और उसके भाइयों द्वारा अक्षरा को मारने की धमकियां मिलने लगी थी. लेकिन वह बुरा दौर था, जो बीत गया. अक्षरा को लेकर फैलाई गयी नकारात्मक बातों के बारे में बिपिन सिंह ने कहा कि एक कलाकार नकारात्मक बातों से ही लोकप्रिय होता है. सकारात्मक बातें तो बस उसे ऊंचा उठाती है. नई ऊंचाइयों पर ले जाती है. जो इंसान नकारात्मक बातों से परेशान नहीं हो रहा है, दरअसल में उसे अपने अंदर झांकने की जरूरत है कि क्या वाकई सब कुछ ठीक है या नहीं.



आपको बता दें कि बहुत जल्द विपिन सिंह अपने एक नए टेलीविजन शो “कन्या प्रधान” को लेकर दर्शकों के सामने आने वाले हैं. इधर अक्षरा सिंह बिग बॉस में धमाल मचा रही हैं और पूरे बिहार का प्यार उन्हें मिल रहा है.