हादसे में दोनों हाथ गवाए फिर करता रहा मेहनत, बीमे के पैसे से खड़ा किया लाखों का बिजनेस

जीवन में कुछ भी असंभव नहीं है। फिर आप कितने भी मुश्किल दौर से गुजर रहे हो, आपकी मेहनत और लगन आपको सफलता का स्वाद चखा ही देती है। अब कर्नाटक के कर्कला के गणेश कामथ को ही ले लीजिए। गणेश ने परिवार की आर्थिक तंगी के चलते 7वीं के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी। इलेक्ट्रिकल कॉन्ट्रेक्टर के रूप में काम करते थे।

साल 2001 में गणेश के बॉस ने उन्हें एक कार्यक्रम के दौरान एक फ्लड लाइट पर एक लाइट बल्ब ठीक करने 29 फीट ऊंचे मचान पर चढ़ा दिया था। इस दौरान असंतुलित होने के चलते वह नीचे गिर गए थे। फिर होश आया तो देखा कि उनके दोनों हाथ करंट लगने की वजह से बेकार हो गए हैं। इस दुख की घड़ी में कंपनी ने भी उन्हें जॉब से निकाल दिया था।



गणेश पर परिवार की सारी जिम्मेदारियाँ थी। हाथ और काम दोनों न होने पर उनके मन में खुदखुशी का ख्याल आया। फिर एक रिश्तेदार ने उन्हें समझाया और कहा कि तुम्हारी किस्मत में राज योग है। तब गणेश को लगा कि ये बात उनका मन बहलाने के लिए यूं ही बोली गई है, लेकिन फिर ये चीज सच भी हो गई।



गणेश ने खुद को संभाला और फिर से काम करने की ठानी। शुरुआत उन्होंने दो म्यूजिक सिस्टम्स खरीद उन्हें शादी और अन्य कार्यक्रमों में किराए पर देने से की। इन्हें खरीदने के पैसे उन्हें अपने बीमे की रकम से मिले थे। शुरुआत में गणेश को म्यूजिक सिस्टम्स किराए पर देकर 350 रुपए मिल जाते थे। लेकिन फिर उन्होंने धीरे-धीरे अपना कारोबार बढ़ाया और जीके डेकोरेटर्स नाम की एक फर्म की स्थापना की।



आज गणेश की फर्म जीके डेकोरेटर्स का टर्न ओवर लाखों में है।वे मेगा इवेंट्स भी आयोजित करते हैं। उन्होंने अपनी कंपनी में 40 लोगों को रोजगार दे रखा है। वे ये काम बीते 16 सालों से कर रहे हैं। वे उन सभी लोगों के लिए प्रेरणा है जो कठिन हालातों में हार मान लेते हैं।